जाने Linux की पूरी जानकारी हिंदी में – Linux In Hindi || CSEstudies

Linux In Hindi
Linux In Hindi

Linux In Hindi


Linux In Hindi –  हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Linux  के बारे में हैं

तो यदि आप जानना चाहते हैं की Linux In Hindi के बारे में तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं


Linux In Hindi

Linux भी एक प्रकार का ऑपरेटिंग सिस्टम है यह एक मल्टी प्रोग्रामिंग, Multi user और multi tasking के रूप में बड़े स्तर पर उपयोग में लाया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है । यह एक प्रकार का Open Source operating System है

"<yoastmark

History of Linux In Hindi ( लाइनक्स का इतिहास )

Linux एक Free में उपलब्ध Operating System है। इसका विकास हेलसिंकी यूनिवर्सिटी के एक छात्र लाइनस टोरवाल्ड्स  ने सन 1999 ई . में किया था ।

लाइनक्स के विकास करने के लिए टोरवाल्ड्स ने सबसे पहले इसका कर्नेल ( kernel ) लिखा फिर बाकि कोड भी लिखे, कर्नेल को किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम का हृदय कहा जाता है । कर्नेल लिखने के बाद, टोरवाल्ड्स ने इसे इन्टरनेट पर डाला तथा अपने मित्रों और अन्य Computer Experts को भी भेजा तथा इसके आगे के विकास में सहयोग की मांग की , लाइनक्स का विकास आज भी अनवरत जारी है ।

Expert  इसमें नए  नए Features जोड़ने की कोशिश कर रहे है, ऐसा इसीलिए हो पा रहा है क्योंकि लाइनक्स का source code  इन्टरनेट पर निःशुल्क उपलब्ध है ।

इस सोर्स कोड को कोई भी डाऊनलोड कर इसमें बदलाव कर इसके और आगे विकास में सहयोग दे सकता है या अपनी आवश्यकता के अनुसार बदल सकता है । लाइनक्स को मूलतः यूनिक्स का फ्री में बांटा जाने वाला संस्करण कहते है क्योंकि यह Posix Compliant है ।

यूनिक्स का प्रत्येक संस्करण पोजिक्स का पालन करता है । । पोजिक्स ( POSIX – Potable Operating Interface for Unix ) कंप्यूटर उद्योग जगत का एक मानक ( Standard ) है ।

Features of Linux In Hindi 

1. Linux is Network Friendly ( लाइनक्स नेटवर्क मित्र है ) 

इन दिनों , लोग अधिकाधि क इन्टरनेट के साथ अनुरक्त हो रहे हैं । आज विजिटिंग कार्ड से लेकर होर्डिंग ( hoarding ) तथा समाचार – पत्रों में छपे विज्ञापनों में तथा दूरदर्शन ( television ) एवं रेडियो प्रायोजित कार्यक्रमों में वर्ल्ड वाइड वेब पते साधारण सी बात हो गई है । इन्टरनेट की लोकप्रियता के कारण ही इसके विकास के बाद आने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम इन्टरनेट के शक्तिशाली टूल्स से सुसज्जित होते हैं ।

आज ऑपरेटिंग सिस्टम को परखने की कई महत्वपूर्ण कसौटी में यह भी यह है कि यह कितना अधिक नेटवर्क संगत ( Network compatible ) है । चूंकि लाइनक्स का विकास प्रोग्रामरों के एक टीम ने इन्टरनेट के माध्यम से किया , इसके नेटवर्किंग गुणों को उच्च प्राथमिकता दी गयी है ।

लाइनक्स आज के किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम ( प्रचालन प्रणाली ) पर क्लाइन्ट या सर्वर रूप में कार्य करने में सक्षम है तथा साथ ही इन्टरनेट सेवा प्रदाता ( Internet Service Provider ) सिस्टम के रूप में भी कार्य करने की क्षमता रखता है ।


2. Linux is Multi – user ( लाइनक्स मल्टी – यूजर है )

लाइनक्स में दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम के अपेक्षाकृत मल्टीयूजर गुण ज्यादा विद्यमान है । लाइनक्स में केवल कई प्रयोक्ता केवल अपना अकाउन्ट ही नहीं रख सकते हैं बल्कि कई प्रयोक्ता ( users ) एक साथ लॉग – इन कर के कार्य कर सकते हैं ।

लाइनक्स में प्रत्येक प्रयोक्ता अपना अकाउन्ट तथा अलग से लॉग इन करने के आतारक्त अपना अलग डायरेक्ट्री तथा अलग डेस्कटॉप भी चुन सकते है । इसके अतिरिक्त उनका अपना डायरेक्ट्री पासवर्ड संरक्षित ( Password Protected ) होने के कारण उसमें किसी तरह का बदलाव ( manipulation ) भी नहीं किया जा सकता है ।


3. Linux Is Open

अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम से बिल्कुल भिन्न लाइनक्स खुला है,  लाइनक्स  distribution  के साथ इसके सोर्स कोड ( source code ) भी उपलब्ध होते हैं , जिसमें आप Freely Editing कर सकते हैं तथा अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप इसे बना सकते हैं ।

Open Software  होने का एक Important Expect यह भी है कि  Kernel extensions तथा Drivers को जरूरत के हिसाब से लिख सकते हैं । Open System की दूसरी बड़ी विशेषता यह है कि इसमें सॉफ्टवेयर का Testing तथा इसको बेहतर बनाने की Process speed and better होती है ।


4. Linux is Free

लाइनक्स दो अर्थ में Free है, इसका पहला अर्थ यह है कि

  1. Linux user इस सिस्टम को अपने style ( अंदाज ) में Edit कर सकता है तथा उसे जैसा चाहता है वह कर सकता है ।

इसका दूसरा अर्थ यह है कि

यह Free है तथा इसे प्राप्त करने के लिए पैसे pay की आवश्यकता नहीं है । लाइनक्स को पाने ( get ) तथा इसके वितरण ( delivery ) का दो लोकप्रिय विधि FTP  तथा CD Rom  है ।

प्रायः सभी बड़े लाइनक्स डिस्ट्रीब्यूशन्स ( distributions ) जैसे रेड हैट ( Red Hat ) , कैलडेरा ( Caldera ) इत्यादि कई साइट से free  डाउनलोड किए जा सकते हैं ।

लाइनक्स पर लिखी गई कई पुस्तकें लाइनक्स सॉफ्टवेयर की C.D. या DVD Free  provide करती हैं ।


5. Linux is Reliable

लाइनक्स आज के कई सबसे अधिक Reliable ( विश्वसनीय  )ऑपरेटिंग सिस्टम में एक है । यह इसलिए भी है क्योंकि लाइनक्स वैसे programmers के द्वारा तैयार किया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है जिन्होंने इसे शौक के रूप में किया तथा उनको इस कार्य के लिए कोई समय सीमा न दी गयी थी ।

लाइनक्स की विश्वसनीयता इसलिए है क्योंकि यह क्रैश प्रोन ( Crash prone ) नहीं है अर्थात् लाइनक्स किसी भी परिस्थिति में रूकता नहीं है तथा इस प्रकार रात दिन लगातार बिना रुके कार्य किया जा सकता है ।

लाइनक्स को अपग्रेड ( upgrade ) करने के लिए इसे बंद करने या दोबारा शुरू ( reboot ) करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है ।


6. Linux is Backwards Compatible ( लाइनक्स बैकवड्स संगत है )

लाइनक्स पुराने हार्डवेयर को बिल्कुल ढंग से सपोर्ट करता है । जब आपके पुराने हार्डवेयर दूसरे Synchronous ( समकालिक ) ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए बेकार हो जायें तब भी लाइनक्स उन हार्डवेयर को सपोर्ट करता है तथा लाइनक्स के लिए पूरी तरह से उपयोगी होता है ।


7. Multitasking

लाइनेक्स में किसी प्रोग्राम को छोटे छोटे कार्यों में विभाजित कर दिया जाता है। कई कार्यों को एक साथ किसी तरह से करने की आपरेटिंग सिस्टम की क्षमता को ही मल्टीटास्किंग कहते है।


8. Security

लिनक्स उपयोगकर्ता सुरक्षा प्रदान करता है जैसे पासवर्ड सुरक्षा / विशिष्ट फ़ाइलों के लिए नियंत्रित उपयोग / डेटा का एन्क्रिप्शन।


9. Virtual Memory

यदि हम किसी बड़े प्रोग्राम या एप्लीकेशन को संपादित करते है। तो हमें कुछ फिजिकल मेमोरी की आवश्यकता होती है जो कि हार्ड डिस्क में जमा कर दी जाती है और आवश्यकता पड़ने पर इसे उपयोग में लाया जा सकता है।


Hardware and Software Requirements to Install Linux

लाइनक्स ( फेडोरा कोट ) या इसका कोई P. C. Edition को स्थापित करने के लिए निम्नलिखित आवश्यकताएँ हैं .

1. X86 प्रोसेसर ( X86 Processor )

आपके कम्प्यूटर को इसके लिए  Intel compatible  सी . पी . यू . की आवश्यकता होती है । हालांकि इसके इन्स्टॉलेशन के लिए प्रोसेसर के लिए यह आवश्यक नहीं है कि यह नवीनतम पेन्टियम प्रोसेसर हो ।

यद्यपि लाइनक्स किसी पुराने प्रोसेसर जैसे 80386 लें तो उस पर भी बिना किसी बाधा के चल सकता है , इसके लिए 80386 से उपर का कोई भी प्रोसेसर उपयुक्त होगा ।


2. फ्लॉपी डिस्क ड्राइव या सी . डी . रौम ( Floppy Disk Drive or CD – ROM )

आपको इन्स्टॉलेशन प्रक्रिया को बूट / प्रारम्भ करने के लिए आपके कम्प्यूटर में फ्लॉपी डिस्क ड्राइव या कॉम्पैक्ट – डिस्क ड्राइव लगा होना चाहिए ।


3. हार्ड डिस्क ( Hard Disk )

आपको लाइनक्स इन्स्टॉलेशन के लिए एक हार्ड डिस्क या हाई डिस्क के पार्टिशन की आवश्यकता होती है जिसमें कम से कम 350 MB space Free हो । हार्ड डिस्क में Free Space की आवश्यकता लाइनक्स इन्स्टॉलेशन के प्रकार तथा पैकेज पर निर्भर करता है ।

यदि आप वर्कस्टेशन इन्स्टॉल करना चाहते हैं तो आपके हार्ड डिस्क में 1 . 5 GB Free Space रहना आवश्यक है , जबकि ” Everything ” इन्स्टॉलेशन के लिए 3 . 5 GB की न्यूनतम आवश्यकता पड़ती है ।


4. रैम ( RAM )

फेडोरा कोर या रेड हैट लाइनक्स का कोई और version को स्थापित करने के लिए कम – से – कम 32 MB रैम का होना आवश्यक है । ग्राफिक्स मोड में लाइनक्स को चलाने के लिए कम से कम 64 MB रैम आवश्यक है । लाइनक्स को इन्स्टॉल करने में सॉफ्टवेयर की आवश्यकता के रूप में दो चीजें महत्वपूर्ण हैं –

  1. Boot Up Disk  – इसका प्रयोग हम लाइनक्स इन्स्टॉलेशन प्रोग्राम चलाने से पहले सिस्टम को बूट ( boot ) करने के लिए करते हैं । इस फ्लॉपी में आवश्यक रूप से FDISK नामक फाइल होना चाहिए
  2. Linux Installation Program – यह प्रोग्राम लाइनक्स के Version के उपर निर्भर करता है । In fact  पूरा प्रोग्राम 3 या चार CD में आता है, DVD Rom की स्थिति में पूरा प्रोग्राम एक ही DVD Rom में प्राय : आ जाता है ।

Advantage Of Linux In Hindi

  1. Open-Source:-Linux एक ओपन-सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है अर्थात् इंटरनेट में Linux का सोर्स कोड मुफ़्त में उपलब्ध होता है। इसके कोड को हम modify करके अपनी सुविधानुसार प्रयोग करने योग्य बना सकते है।
  2. Performance:-Linux वर्कस्टेशन तथा नेटवर्क में उच्च कोटि की performance देता है। Linux यूजरों की बहुत बड़ी संख्या को एक साथ manage कर सकता है।
  3. Multitasking:-Linux ऑपरेटिंग सिस्टम multitasking होता है अर्थात् हम इसमें एक समय में बहुत सारी चीजों को चला सकते है।
  4. Multi user:-Linux ऑपरेटिंग सिस्टम multi user होता है अर्थात् इसका प्रयोग बहुत सारें यूजर कर सकते है।
  5. Compatibility:-वह एप्लीकेशन जो Unix में run होती है तो वह Linux में भी run होती है इसका अर्थ यह है कि Linux और Unix एक दूसरे के compatible है।
  6. Low Cost:- हमें Linux के License को खरीदने के लिए पैसे खर्च नही करने पड़ते। हम सीधे ही इंटरनेट से इसे डाउनलोड कर सकते है।
  7. Security:-Linux बहुत ज्यादा सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह ऑपरेटिंग सिस्टम सभी users के लिए username और password उपलब्ध कराता है जिससे कि कोई unauthorized यूजर access ना कर पायें।

Conclusion Of Linux In Hindi

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की Linux In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हु की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं

3 Trackbacks / Pingbacks

  1. पढ़े Stack ( Data Structure)के बारे में - Stack In Data Structure In Hindi
  2. जाने सभी Linux command हिंदी में - Linux Command In Hindi
  3. GREP Command In Linux In Hindi || GREP Command के बारे में पूरी जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*