जाने डाटा ट्रांसमिशन सर्विस हिंदी में – Data Transmission Service In Hindi

Rate this post

Data Transmission Service In Hindi

जाने डाटा ट्रांसमिशन सर्विस हिंदी में Data Transmission Service In Hindi , Computer Network Notes In Hindi.

Data Transmission Service In Hindi
Data Transmission Service In Hindi

Data Transmission Service In Hindi :- हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Computer Networking के  Data Transmission Service In Hindi  के बारे में हैं |

यदि आप जानना चाहते हैं की Data Transmission Service In Hindi   क्या हैं  तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |


Data Transmission Service In Hindi

1. Dial-up line (डायल -अप -लाइन) 

इसे स्विचड लाइन (switched line ) भी कहते हैं तथा इसका उपयोग टेलीफोन की तरह नंबर डायल कर संचार स्थापित करने में किया जाता है | इस व्यवस्था में जब इंटरनेट चालू रहता है तो फ़ोन  प्रयोग बातचीत के लिए नहीं किया जा सकता डायल अप सेवा में मॉडर्न को टेलीफोन लाइन से जोड़ा जाता है | इसमें Serial line internet protocol या point-to-point प्रोटोकॉल का प्रयोग किया जाता है |

2. Leased line (लीज्ड लाइन) 

लीज्ड  लाइन (Leased line )में  व्यक्तिगत या सीधी लाइन (Private or dedicated ) line भी कहते हैं | इसमें दो दूरस्थ कम्प्यूटरों  को एक खास लाइन से सीधा जोड़ा जाता हैं | | इसका प्रयोग आवाज और डाटा (Voice or Data ) दोनों के लिए किया जा सकता हैं | इस सेवा का मूल्य लाइन की छमता जिसे बॉड  या बीपीएस (Baud  or bps – Bits per sec ) में  मापते हैं ,  दूरी पर निर्भर करता है |  इसका प्रयोग सामान्यत: बड़ी संस्थाओं द्वारा अधिक मात्रा में टाटा स्थानांतरण के लिए किया जाता है |  LAN (लोकल एरिया नेटवर्क)  में कंप्यूटर आपस में leased  या dedicated  लाइन द्वारा ही जुड़े होते हैं |

3. ISDN ( Integrated Services Digital Network) 

यह डिजिटल टेलीफोन व डेटा हस्तान्तरण (Transfer ) सेवा प्रदान करता है चूंकि डेटा हस्तान्तरण (Transfer ) डिजिटल रूप में होता है इसलिए इसमें मॉडम की जरूरत नहीं होती | है तथा इसमें शोर भी नगण्य (Negligible )होता है | इसमें डाटा व आवाज दोनों  के लिए अलग-अलग चैनल का प्रयोग किया जाता है |  अतः इंटरनेट से जुड़े होने के बावजूद फ़ोन  पर सामान्य रूप से बातचीत की जा सकती है Isdn  dial -up का विकसित रूप है | यह एक टेलीफोन लाइन है जिसमें 64Kbps के 2 चैनल (कुल 128kbps)  होते हैं |आईएसडीएन ISDN  सेवा द्वारा किसी नेटवर्क के एक से अधिक उपयोगकर्ता एक ही लाइन पर प्रयोग कर इंटरनेट से जुड़ सकते हैं |

4. GSM – (Global System For Mobile Communication)

जीएसएम (ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल कम्युनिकेशन) यह मोबाइल फोन के संचालन के लिए सर्वाधिक प्रचलित  मानक  है  जिसमे बिना फोन बदले अंतरराष्ट्रीय रोमिंग (International Roaming )  सुविधा प्रदान की जाती है | Short message Service (SMS)  के जरिए कम खर्च में छोटे संदेश भेजने का प्रारंभ जीएसएम मानक द्वारा ही किया गया है |

5. CDMA ( Code Division Multiple Access )

CDMA (सीडीएमए – कोड डिविजन मल्टीप्ल एक्सेस ) यह तीसरी पीढ़ी मानक पर आधारित तकनीक है जिसका प्रयोग मोबाइल फोन संचालन (operation ) में किया जाता है |

6. DSL ( Code Division Multiple Access )

DSL ( डिजिटल सब्सक्राइबर लिंक ) डीएसएल इसमें टेलीफोन लाइनों का प्रयोग डिजिटल डाटा ट्रांसमिशन में किया जाता है | इस में कंप्यूटर सदा नेटवर्क से जुड़ा रहता है , अतः संपर्क स्थापित करने के लिए डायल करने की जरूरत नहीं पड़ती इसमें नेटवर्क  से जुड़ने के लिए डीएसएल मॉडेम (DSL MODEM ) का  प्रयोग किया जाता है |  इसमें एक साथ डांटा और आवाज (DATA AND VOICE )दोनों को टेलीफोन लाइन पर भेजा जा सकता है |

7. ADSL – (Asymmetrical Digital Subscriber Link )

ADSL (एडीएसऐल)  (Asymmetrical Digital Subscriber Link ) में डाटा भेजने (Upload ) और प्राप्त करने (Download )  की गति अलग-अलग होती है |  दूसरी तरफ SDSL  (एसडीएसऐल)  (Symmetrical Digital Subscriber Link ) में  डाटा भेजने और प्राप्त करने की गति एक समान होती है |

8. वायरलेस ब्रॉडबैंड (wireless broadband )

  • वायरलेस ब्रॉडबैंड ( wireless broadband ) रेडियो तरंग की सहायता से बिना तार के त्रीव गति से डाटा स्थानांतरण की विधि ब्रॉडबैंड कहलाती है | इसमें 2 तकनीक वाईफाई (Wi-Fi) तथा वाईफाई (Wi-Fi Max ) का प्रयोग  किया जाता हैं  |
  • Wi-Fi  तकनीक द्वारा कंप्यूटर , लैपटॉप , टेबलेट या स्मार्टफोन आदि को वायरलेस एक्सेस प्वाइंट (WAP) या  Wi-Fi Hotspot  के जरिए कंप्यूटर नेटवर्क से जोड़ा जाता है | इसमें 2.4 GHz या 5 GHz  Frequency  की तरंगों का प्रयोग किया जाता है इसमें , Wi-Fi Hotspot से 100 metro की दूरी तक इंटरनेट से जोड़ा जा सकता है | इसे wireless लोकल एरिया नेटवर्क (LAN) भी कहा जाता है |
  • वाई – फाई Max (वर्ल्ड वाइड इंटर ऑपेरेबिलिटी फॉर माइक्रोवेव एक्सेस ) 50  kilometer  की दूरी तक त्रीव गति की वायरलेस इंटरनेट सेवा प्रदान करता है  | अलग-अलग स्थानों पर  स्थित Wi-Fi Hostpot  को वायरलेस तकनीक द्वारा आपस में जोड़कर वायरलेस नेटवर्क बनाने के लिए किया जाता है |
  • Wi-Fi Max  तकनीक द्वारा wireless  Metropolitan Area  Network (MAN ) एरिया नेटवर्क का निर्माण किया जाता है |
  • सेल्ल्युलर फोन (cellular phone ) का प्रयोग कर भी कंप्यूटर को इंटरनेट से जोड़कर वायरलेस नेटवर्क की स्थापना की जा सकती है |
क्या आप जानते हैं नोटबुक , नेटबुक तथा टेबलेट आदि में  मोबाइल सिम डालने के लिए एक स्थान बना होता है जिन्हे हम slot  कहते हैं , जिस्का  प्रयोग कर सेल्यूलर टेलीफोन सेवा द्वारा नेटवर्क से जुड़ा जा सकता है तथा इंटरनेट का प्रयोग किया जा सकता है |

निवेदन:- अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. तथा इस Data Transmission Service In Hindi  से सम्बन्धित सवाल आप comment करके पूछ है. धन्यवाद. |

1 thought on “जाने डाटा ट्रांसमिशन सर्विस हिंदी में – Data Transmission Service In Hindi”

Leave a Comment