जाने कंप्यूटर नेटवर्क हिंदी में – Computer Network In Hindi

Computer Network In Hindi


हेल्लो Engineers कैसे हो आप सब उम्मीद हैं आप ठीक होगे , और आपकी पढाई भी ठीक ही होगी तो आज जो शेयर करने वाला हूँ वो Computer Networking  के बारे में हैं

अदि आप जानना  चाहते हैं की Computer Networking Kya Hai तो आप इस पोस्ट को पढ़ सकते हैं

Visual Basic Notes In Hindi:-


What Is Computer Network In Hindi

कंप्यूटर नेटवर्क विभिन्न संचार माध्यमों (communication media ) द्वारा आपस में जुड़े दो या दो से अधिक कम्प्यूटरों का समूह है जिसमे नेटवर्क जुड़े कंप्यूटर समान नियमों का अनुपालन कर आपस में डाटा व सूचनाओं का आदान-प्रदान (send or receive )तथा संसाधनों का साझा उपयोग करते हैं | कंप्यूटर नेटवर्क का प्रयोग टेक्स्ट ,ऑडियो , वीडियो डाटा को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक भेजने के लिए किया जाता है | इसमे किसी एक कंप्यूटर नेटवर्क पर नियंत्रण नहीं होता |

किसी नेटवर्क में संचार को स्थापित करने के लिए चार चीजों की आवश्यकता पड़ती है |

1 )प्रेषक (sender)

2 ) माध्यम (Medium)

3 )प्राप्तकर्ता (Receiver)

4 )भेजने और प्राप्त करने की कार्य विधि (Protocol)

 

Image result for sender medium receiver

 

Benefits Of Computer Network In Hindi : नेटवर्क के लाभ

  • विभिन्न कंप्यूटर द्वारा आपस में सूचनाओं का आदान-प्रदान आसानी से किया जाता हैं
  • सूचना और मांगे उपकरणों का सादा उपयोग|
  • सूचना का तेज गति और शुद्धता के साथ आदान-प्रदान करना
  • कम खर्च में डांटा का आदान-प्रदान किया जा सकता हैं

Computer Protocol In Hindi

नेटवर्क का विभिन्न कंप्यूटर द्वारा संचार  स्थापित करने तथा  डाटा स्थानांतरण को सुविधाजनक करने के लिए बनाए गए नियमों और प्रक्रियाओं का समूह प्रोटोकोल कहलाता है |

नेटवर्क पर प्रयुक्त कुछ मुख्य प्रोटोकोल है :-

TCP/IP – Transmission Control Protocol/Internet Protocol

HTTP – Hyper Text Transfer Protocol

FTP – File Transfer Protocol

SMTP – Simple Mail Transfer Protocol

 

Nodes (नोड)

नेटवर्क से जुड़े विभिन्न कंप्यूटरों का अंतिम बिंदु या टर्मिनल जो network के संसाधनों का उपयोग कर सकते हैं नोड  कहलाते हैं, प्रतीक नोड सेन्डर तथा रिसीवर दोनों की तरह कार्य करता है |

Server (सर्वर)

नेटवर्क से  किसी एक नोड  को संचार व्यवस्था बनाए रखने तथा साझा  संसाधनों के उपयोग को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी सौंपी जाती है जिसे सर्वर  server कहते हैं यह नेटवर्क से जुड़े प्रत्येक कंप्यूटर को विभिन्न सेवाएं प्रदान करता है |


Methods of communication In Hindi (संचार की विधियां)

Image result for simplex method in communication

Simplex Method ( सिंपलेक्स विधि )  :-  इसमें सूचनाओं का संचारण एक ही दिशा में होता है इसमें सूचना का प्राप्त होना सुनिश्चित नहीं होता, जैसे रेडियो का प्रसारण |Simplex channel

Half-duplex method ( हाफ डुप्लेक्स विधि ) :- इसमें सूचनाओं का संचरण दोनों दिशाओं में किया जा सकता है पर एक बार में एक ही दिशा में सूचनाओं का आदान प्रदान किया जा सकता है |

Half-duplex channel

Full – Duplex Method (फुल डुप्लेक्स मेथड) :- सूचना तथा डाटा का दोनों दिशाओं में एक साथ आदान प्रदान किया जा सकता है

Full-duplex channel

Bandwidth In Hindi { बैंडविथ }

डाटा के संचारण के समय माध्यम में उपयोग उच्चतम और न्यूनतम आवृत्ति की सीमा बैंडविथ कहलाती है , बैंडविथ जितना अधिक होगा, डाटा का संचारण उतना ही तीव्र  होगा | इस प्रकार बैंडविथ आशय संचार माध्यम की सूचना वहन करने की क्षमता से होता  है एनालॉग सिगनल के लिए बैंडविथ को (Hertz – Hz )में मापा जाता है

कंप्यूटर नेटवर्क के लिए बैंडविथ का तात्पर्य संचार माध्यम पर डाटा स्नानतरण की गति (Data Transfer Rate )से होता है , इसे bit per second (बीट प्रति सेकंड) में मापा जाता है जिसे Baud (बॉड)  भी कहते हैं | बैंडविथ Mbps एमबीपीएस या Gbps जीबीपीएस में मापते हैं | megabit   1 million या 1000000 बिट के बराबर होता है |

Baud (बॉड)

यह डाटा संचारण की गति को मापने की इकाई है इसे बीट प्रति सेकंड भी कहा जाता है |

Broadband  ब्रॉडबैंड

संचार माध्यम जिसमे डाटा स्थानांतरण की विशाल बैंडविथ वाला सिगनल उपलब्ध होता है ब्रॉडबैंड कहलाता है | इसमें डाटा स्थानांतरण की गति तेज़ होते हैं तथा एक ही संचार माध्यम पर एक से अधिक चैनल के डाटा स्नानतरण  किए जा सकते हैं | डीएसएल ( डिजिटल सब्सक्राइबर लिंक) टीवी तथा ऑप्टिकल फाइबर ब्रॉडबैंड सेवा उपलब्ध कराते हैं |

TRAI ट्राई (टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया)

इसने 512 किलोबिट  प्रति सेकंड Kbps  से अधिक क्षमता वाले Communication media

(संचार माध्यमों)  को broadband की संज्ञा दी है |

Baseband (बेसबैंड)

वह संचार माध्यम डाटा स्थानांतरण के लिए कम बैंडविथ उपलब्ध होता हैं , बेसबैंड कहलाता है डाटा के स्थानांतरण के लिए माध्यम के संपूर्ण बैंडविथ का प्रयोग किया जाता है इसे Narrow Band (नैरो बैंड)  भी कहा जाता है |


निवेदन:- दोस्तों यही थे Computer Network In Hindi , क्या आपको समझ आया यदि आपको समझ आया होगा तो अपने दोस्तों को शेयर जरुर करे

1 Comment

1 Trackback / Pingback

  1. जाने डाटा ट्रांसमिशन सर्विस हिंदी में - Data Transmission Service In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*