Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi-सिंक्रोनस तथा सिंक्रोनस संचार

Rate this post

Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi  -हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Computer Networking के Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi के बारे में हैं |

यदि आप जानना चाहते हैं की Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi क्या हैं  तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |

Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi

Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi  

  • Synchronous Transmission:- डेटा स्थानांतरण (Data Transmission) की वह विधि जिसमें संकेतों को भेजने से पहले प्रेषक (Sender) और प्राप्तकर्ता (Receiver) के बीच समन्यव (Coordination) आवश्यक है, सिंक्रोनस ट्रांसमिशन (Synchronous Transmission) कहलाता है,  फोन पर आवाज का आदान-प्रदान इसका उदाहरण है |
Synchronous Transmission
Synchronous Transmission
  • Asynchronous Transmission :-Asynchronous Transmission के दौरान प्रेषक (Sender) और प्राप्तकर्ता (Receiver) के बीच समन्यव (Coordination) स्थापित करना आवश्यक नहीं होता बल्कि प्राप्तकर्ता ( Receiver ) डेटा प्राप्त करने के लिए हमेशा तैयार रहता है | कंप्यूटर नेटवर्क में स्थानांतरण (Data Transmission)  के लिए अधिकांश इसी विधि का प्रयोग किया जाता है |
Asynchronous Transmission
Asynchronous Transmission

Difference Between Synchronous And Asynchronous Transmission

Synchronous And Asynchronous Transmission
Synchronous And Asynchronous Transmission

Note:-

निवेदन:- अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. तथा इस Synchronous And Asynchronous Transmission In Hindi   से सम्बन्धित सवाल आप comment करके पूछ है. धन्यवाद. |

Leave a Comment