Planning Of Small Scale industry In Hindi

Rate this post

Planning Of Small Scale industry In Hindi


Planning Of Small Scale industry In Hindi – हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Entrepreneurship  के  Planning Of Small Scale industry In Hindi के बारे में हैं तो यदि आप जानना चाहते हैं की ये  क्या हैं तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |


Planning Of Small Scale industry In Hindi

planning of small scale industry
Business man thinking and planning process. Young entrepreneur planning his month on a laptop computer. Flat style vector character illustration.

किसी लघु उद्योग के नियोजन में निम्नलिखित चरण सम्मिलित होते हैं –

(i) Selection of industrial / commercial activity (औद्योगिक / व्यावसायिक गतिविधि का चयन )

उद्यमी के लिये सर्वप्रथम समस्या होती है – अपने लिये उपयुक्त इकाई का चयन करने की । यदि व्यक्ति द्वारा किसी इकाई के बारे में पूर्व में सोचा भी गया हो तब भी उसका यह अर्थ कदापि नहीं होता कि वह उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी रखता है ।

अतः उसके द्वारा पूर्व में सोची गई इकाई के बारे में अतिरिक्त जानकारी प्राप्त करने हेतु अथवा किसी नई इकाई के बारे में जानकारी तथा अन्य विवरण प्राप्त करने हेतु संबंधित जिले के जिला उद्योग केन्द्र अथवा लघु उद्योग सेवा संस्थान के नजदीकी कार्यालय अथवा कंसल्टेन्सी ऑर्गनाइजेशन से प्राप्त की जा सकती है ।

अतः नियोजन का प्रथम चरण है कि उद्यमी व्यवसाय सुनिश्चित करे ।

( ii ) To conduct a survey to find market prospects (बाजार संभावनाएँ ज्ञात करने हेतु सर्वेक्षण करना )

सभी उद्यमियों के लिये यह आवश्यक होता है कि वे उनके द्वारा चयनित उत्पाद / व्यवसाय का बाजार जानने के लिये गहन बाजार सर्वेक्षण करें ।

इसके लिये अपने प्रतिस्पधियो तथा वितरकों एवं उपभोक्ताओं आदि से जानकारी प्राप्त करनी होती है ।

( iii ) Unit brief plan (इकाई की संक्षिप्त योजना )

बाजार सर्वेक्षण द्वारा एकत्र की गई जानकारियों का विश्लेषण करने के बाद तथा इकाई का अतिम रुप से चयन करने के बाद उधमी द्वारा इसके विभिन्न एवं तकनीकी पहलुओ को एक प्रपत्र में सकलित किया जाता है जिसमें इकाई के लिये लगने वाले प्लाण्ट एवं मशीनरी कच्चो माल तथा इकाई की लाभप्रदता आदि की जानकारी देनी होती है ।

उधमी यह संक्षिप्त योजना स्वयं भी बना सकते है अथवा पूर्वतया उपलका प्रोजेक्ट प्रोफाइल्स का भी उपयोग कर सकते है ।

( v ) Deciding on the appropriate site for the unit (इकाई के लिये उपयुक्त स्थापना स्थल का निर्णय लेना )

इकाईका चयन करें लेने के उपरान्त उद्यमी उसकी स्थापना के लिये उपयुक्त स्थापना चल तथा लोकेशन क्या होगी यह सुनिश्चित करता है । इसके लिये वह विभिन्न उपलबा स्थापना स्थलों के गुण दोषों , उपलब्धता , अपनी पसंद तथा अन्य पहलुओं पर सोच विचार करने के उपरान्त किसी स्थल विशेष पर निर्णय लेता है ।

( v ) Unit’s proposed registration (इकाई का प्रस्तावित पंजीयन)

यद्यपि इकाई का प्रस्तावित पंजीयन अनिवार्य नहीं है परंतु यह उद्यमियों के हित में होता है कि वे अपनी इकाई का पंजीयन संबंधित जिला उद्योग केन्द्र के कार्यालय में करवा लें । पंजीयन करवाने के उपरांत उद्यमी को उद्योग स्थापना से संबंधित आगे के चरणों में काफी आसानी हो जाती है ।

( vi ) Getting work place or allotment of land for the unit (इकाई के लिये कार्य स्थल प्राप्त करना अथवा भूमि आवंटित करवाना)

यद्यपि प्रस्तावित पंजीयन करवाने के लिये यह आवश्यक नहीं होता किसरामी यह दर्शाये कि उसकी इकाई किस प्लॉट क्र . में स्थापित होगी . परंतु इसके उपरान्त के चरणों में उसे विशेष रूप से यह बताना होगा कि उसकी इकाई किस प्लॉट पर स्थापित होगी ।

अतः उसके लिये उसे या तो कोई भवन / दुकान किराये पर लेनी होगी अथवा उद्योग विभाग / औद्योगिक केन्द्र विकास निगम से भूमि प्राप्त करनी होगी अथवा किसी अन्य माध्यम से इकाई की स्थापना हेतु भूमि की व्यवस्था करनी होगी ।

( vii ) Preparation of maps and estimates related to the building / workshed (भवन / कार्यशेड से संबंधित नक्शा व ऐस्टीमेट्स तैयार करवाना)

भूमि की व्यवस्था हो जाने के बाद उद्यमीद्वारा उस पर बनाये जाने वाले भवन / कार्यशेड का नक्शा तथा ऐस्टिमेट यह जानने हेतु बनाया जाता है कि भवन / कार्यशेड के निर्माण में क्या तागत आयेगी । इसके लिये उद्यमी किसी चार्टर्ड इंजीनियर की सेवाएं ले सकता है तथा ऐसा ऐस्टिमेट तथा नक्शा स्वयं भी बना सकता है ।

( viii ) Obtaining consent for supply of electricity from Electricity Department (विद्युत विभाग से विद्युत प्रदाय हेतु सहमति प्राप्त करना )

प्राय सभी इकाइयों के संचालन के लिये वियत की आवश्यकता होती है , अतः उद्यमी के लिये यह आवश्यक हो जाता है कि वह स्थानीय रुप से कार्यरत विद्युत मण्डल के कार्यालय से सम्पर्क करके यह अनुमान लगाने का प्रयास करे कि उसके प्रस्तावित कार्यास्थल पर वाछित मात्रा में विद्युत प्राप्त करने पर कितना खर्च आयेगा ताकि वे उसके अनुरुप चित्त को व्यवस्था कर सके ।

( ix ) Water system  (पानी की व्यवस्था )

जिन इकाइयों में उत्पादन कार्य के लिये पानी की आवश्यकता होती है उनके संदर्भ में या तो उद्यमी को स्वयं पानी की व्यवस्था ( बोरिंग आदि के माध्यम से ) अथवा पी . एच . ई . आदि के माध्यम से करनी होती है ।

( x ) Receiving quotations related to machinery and equipment (मशीनरी तथा उपकरणों से संबंधित कोटेशन्स प्राप्त करना )

प्राय अधिकाशत उद्यमियों को उनकी इकाई की स्थापना हेतु किसी न किसी संस्था से वित्तीय सहायता प्राप्त करनी होती है इसके अतिरिक्त कई अन्य संस्थाओं की आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु भी प्रोजेक्ट रिपोर्ट का निर्माण किया जाना आवश्यक होता है । इसके लिये आवश्यक है कि उद्यमी उसकी इकाई में लगने वाले विभिन्न मशीनों तथा उपकरणों से संबंधित अधिक से अधिक मशीनरी प्रदायकर्ताओं से कोटेशन्स प्राप्त करे इसके साथ – साथ उसे विभिन्न कच्चामाल प्रदायकर्ताओं से भी कोटेशन्स प्राप्त करने होते हैं ।

(x i )Preparation of Detailed Project Report of the unit  (इकाई का विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन तैयार करना )

क्योंकि अधिकांशतः | संदर्भो में उद्यमी द्वारा किसी न किसी वित्तीय संस्था से आण एवं किन्हीं अन्य विभागों से अनापास प्रमाण पत्र प्राप्त करने होते है अतः इस स्तर पर उसे अपनी इकाई की प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करनी होती है । क्योंकि अभी तक उसके पास प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने हेतु सभी आवश्यक जानकारियों आ चुकी होती है अतः उसके लिये इन जानकारियों को आधार बनाकर । प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाना आसान हो जाता है ।

( xii ) Obtaining no objection certificate and license from various regulatory bodies (विभिन्न नियमनकारी संस्थाओं से अनापत्ति प्रमाणपत्र एवं लायसेंस प्राप्त करना)

एसा कई सस्थाएँ हैं जहाँ से उद्यमी को उत्पादन में आने से पूर्व अनापत्ति / लायसस । प्राप्त करना होता है । उदाहरणार्थ – सामान्य इकाइयों के संदर्भ में प्रदूषण मण्डल से . दवाई निमाणक सम्बध में खाद्य एवं औषधि – प्रशासन से पेटोलियम अथवा विस्फोटक पदार्थों क सदन में मुख्य नियंत्रक एक्स्प्लोसिस के कार्यालय से खनिजों पर आधारित उद्योगों के संदर्भ में राज्य के खनिज विभाग आदि से अनापत्ति प्रमाणपत्र / लायसेंस प्राप्त करना होता है |

( xiil )Submission of application for obtaining loan  (ऋण प्राप्त करने हेतु आवेदन प्रस्तुत करना )

इस स्तर पर पहुँचते – पहुंचत । उद्यमी के पास व समस्त प्रपत्र तथा सहमतियाँ / अनापत्तियों प्राप्त हो जाती है जो बैंकों / वित्तीय सस्थाओं द्वारा वित्तीय सहायता प्रदाय करने हेतु वाँछित होती हैं । अतः समस्त प्रपत्र एकत्रित कर उद्यमी अपना आवेदन पत्र संबंधित बैक / वित्तीय संस्था अथवा किसी भी अन्य वित्तीय स्रोत कार्यालय में प्रस्तुत करता है ।

( xiv )Obtaining loan approval  (ऋण स्वीकृति प्राप्त करना )

इस स्तर पर उद्यमीद्वारा ऋण स्वीकृति प्राप्त की जाती है ।

( xv)Arrangement / acceptance for margin money (मार्जिन मनी हेतु व्यवस्था / स्वीकृति )

बैंक / वित्तीय संस्था से ऋण स्वीकृति के बाद उनके द्वारा उद्यमी से एक निश्चित मात्रा में मार्जिन मनी की अपेक्षा की जाती है । इस मार्जिन मनी की व्यवस्था उद्यमी या तो अपने स्वयं के स्रोतों से कर लेता है या उसे किसी अन्य योजनान्तर्गत मार्जिन मनी अथवा सुलभ ऋण अथवा बीज पूँजी की पात्रता हो तो वहाँ । से उसकी स्वीकृति प्राप्त करने हेतु प्रयास करता है । मार्जिन मनी स्वीकृत हो जाने के उपरान्त यह मार्जिन मनी उद्यमी द्वारा संबंधित वित्तीय संस्था में ( यदि लागू हो तो ) जमा करवा दी जाती ।

( xvi ) Start construction (निर्माण कार्य प्रारम्भ करना )

बैंक / वित्तीय संस्था से ऋण स्वीकृति प्राप्त हो जाने । के उपरान्त उद्यमी द्वारा भवन / शेड के निर्माण का कार्य कराया जाता है ।

( xvii )Place order for machine  (मशीनही हेतु ऑर्डर प्लेस करना )

जब उद्यमी को यह लगने लगे कि भवन / कार्य शेड का निर्माण पूर्ण होने वाला है तब उसे मशीनरी व उपकरण हेतु ऑर्डर प्लेस करना चाहिये ।

( xviii ) Obtaining an electrical connection (विद्युत कनेक्शन प्राप्त करना )

मशीनरी हेतु ऑर्डर प्लेस करने के साथ ही उद्यमी द्वारा विद्युत कनेक्शन प्राप्त करने के लिये भी औपचारिकताएँ पूर्ण कर कनेक्शन प्राप्त किया जाता है ।

( xix )Installation of machines, selection of manpower and arrangement of raw materials  (मशीनों की स्थापना , जनशक्त्ति का चुनाव एवं कच्चे माल की व्यवस्था )

इसी दौरान मशीनें कार्यस्थल पर आ जाने पर उद्यमी द्वारा उनकी स्थापना की जाती है तथा इकाई हेतु लगने वाले कच्चे माल की व्यवस्था की जाती है । इकाई के संचालन हेतु आवश्यक कर्मचारियों एवं श्रमिकों की व्यवस्था भी इसी स्तर पर की जाना अपेक्षित होता है ।

( xx  ) Unit trial run (इकाई का ट्रायल रन लेना)

मशीनरी स्थापित हो जाने के उपरान्त यह सुनिश्चित करने के लिये कि संबंधित मशीनों द्वारा सही गुणवता का कार्य निष्पादन किया जा रहा है , उद्यमी द्वारा ट्रायल रन लिया जाता है ।

( xxi ) Commercial production (वाणिज्यिक स्तर पर उत्पादन प्रारम्भ करना)

ट्रायल रन के दौरान उत्पादन | के सही पाये जाने पर उद्यमी द्वारा वाणिज्यिक स्तर का उत्पादन प्रारम्भ किया जाता है , ऐसा । | उत्पाद जो बाजार में वाणिज्यिक रुप से बेचा जाता है ।

( xxii ) Permanent registration of the unit (इकाई का स्थायी पंजीयन )

इकाई द्वारा वाणिज्यिक स्तर पर उत्पादन प्रारम्या कर देने के उपरान्त उसका संबंधित जिला उद्योग केन्द्र के कार्यालय में स्थायी पंजीयन करवाया जाता है ।

( xxiii )Getting the various facilities available to the unit  (इकाई को मिलने वाली विभिन्न सुविधाएँ प्राप्त करना )

स्थायी पंजीयन करवाने के उपराँत उद्यमी द्वारा उसकी इकाई को मिल सकने वाली विभिन्न सुविधाओं / रियायतों जैसे पूँजी अनुदान , विक्रय कर में छट , आदि हेत संबंधित विभागों में आवेदन किया जाता है तथा । ये समस्त सुविधाएँ , रियायतें प्राप्त करने के प्रयास किये जाते है ।

 


Final Word

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की Planning Of Small Scale industry In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हूँ की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |

 

2 thoughts on “Planning Of Small Scale industry In Hindi”

Leave a Comment