Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship

Rate this post

Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship


Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship – हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Entrepreneurship  के  Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship के बारे में हैं तो यदि आप जानना चाहते हैं की ये  क्या हैं तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |


Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship

Feasibility Study  में उन्हीं Aspects or points (पहलुओं या बिन्दुओं)  पर विचार किया जाता है । जिन पर प्रारम्भिक विश्लेषण में  किया जाता है । परन्तु व्यवहार्यता अध्ययन ( feasibility study)  में यह विचार थोडा Broad and dense (व्यापक और सघन) होता है ।

किसी परियोजना की Feasibility study (सम्भाव्यता या व्यवहार्यता अध्ययन) में उसके विभिन्न Aspects पहलु  , जैसे  – location, production capacity, production technology and other physical means etc. (स्थान , उत्पादन क्षमता , उत्पादन तकनीकी तथा अन्य भौतिक साधनों आदि)  का विचार व विश्लेषण किया जाता है ।

Feasibility Study

इसमें Project costs, financial resources, production costs. Sales, income, profits, social benefits etc. (परियोजना लागत , वित्तीय साधनों , उत्पादन लागतो . विक्रय , आय , लाभ , सामाजिक लाभ आदि) का विश्लेषण किया जाता है तथा उनके बारे में Specific estimates (विशिष्ट अनुमान)  लगाये जाते हैं ।

Feasibility Study में लगाये गये विशिष्ट अनुमानों के आधार पर यह ज्ञात होता है कि Project economic, technical and social vision (परियोजना आर्थिक , तकनीकी एवं सामाजिक दृष्टि )से उचित व लाभदायक है अथवा नहीं ?  यह परियोजना भविष्य में कितने समय तक एवं किस स्तर तक सफल होगी ?

सम्भाव्यता अध्ययन से The viability of the project (परियोजना की जीव्यता या जीवन क्षमता) का पता चलता है । दूसरे शब्दों में हम कह सकते है कि , परियोजना की जीव्यता या जीवन क्षमता ( viability ) का पता लगाने में सम्भाव्यता अध्ययन सहायक होता है ।

व्यवहार्यता अध्ययन में निम्नलिखित पहलुओं का विश्लेषण करते हैं –

( i ) बाजार एवं मॉग विश्लेषण ( market and demand analysis )

( ii ) तकनीकी विश्लेषण ( technical analysis )

( iii ) संयन्त्र स्थान एवं स्थिति ( plant location and site )

( iv ) आयात आवश्यकताएँ ( import requirements )

( v ) विपणन ( marketing )

( vi ) परियोजना लागत ( project cost )

( vii ) बिक्री और लाभ ( sales and profit )

( viii ) वित्तीय विश्लेषण ( financial analysis )

( ix ) मूल्यांकन ( appraisal )

( x ) कर भार मूल्यांकन ( assessing tax burden )


Final Word

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की Planning Of Small Scale industry In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हूँ की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |

 

2 thoughts on “Feasibility Study In Hindi In Entrepreneurship”

Leave a Comment