Institutional Setup In Hindi

Institutional setup

Institutional Setup In Hindi


 Institutional Setup In Hindi–  हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Entrepreneurship  के  Institutional Setup In Hindi  के बारे में हैं तो यदि आप जानना चाहते हैं की Institutional Setup In Hindi   क्या हैं तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं |


Institutional Setup In Hindi

समर्थन प्रणाली और संस्थागत सेटअप में उद्यमिता विकास ( Organizations, extension, research and consultancy services )  संगठनों, विस्तार, अनुसंधान और परामर्श सेवाओं के साथ-साथ बड़ी औद्योगिक इकाइयां शामिल होंगी जो सहायक उद्योगों को विकसित करने में सहायता करेंगे तथा उसके औद्योगिक में रुचि रखेंगे |

“institutional support system”  शब्द आम तौर पर industry और business  के economic environment (आर्थिक वातावरण) को संदर्भित करता है , उन authorities and institutions  को शामिल करना जिनके decisions and operational framework  (निर्णय और परिचालन ढाँचे)  व्यवसाय के स्तर को प्रभावित करते हैं।

Institutional setup

 

Need for Institutional Support to Entrepreneurship Development (उद्यमिता विकास के लिए संस्थागत सहायता की आवश्यकता)

Entrepreneurship नए उद्यम शुरू करने की एक creative process (रचनात्मक प्रक्रिया) है | इसमें Innovation  और Activities  है ,इसके लिए पर्याप्त मात्रा में Resources चाहिए।

निम्नलिखित क्षेत्रों में उद्यमियों को Institutional support की आवश्यकता है :-

1 ) Capital resources (पूंजीगत संसाधन)

cottage and small industry ( कुटीर और लघु उद्योग)  को पर्याप्त पूंजी संसाधनों की आवश्यकता होती है, लेकिन पूंजी बाजार साधनों तक आसानी से नहीं पहुंच पाते हैं। इसलिए capital resources (पूंजीगत संसाधन)  उपलब्ध कराने के लिए Institutional support की आवश्यकता है |

2 ) Raw material supply (कच्चे माल की आपूर्ति)

कच्चे माल की आसान उपलब्धता entrepreneurship development ( उद्यमिता विकास )  की सुविधा प्रदान करती है। विशेष रूप से नई तकनीक पर cottage and small industry  (कुटीर और लघु उद्योग)  को विदेशों से कच्चे माल की आवश्यकता होती है। उत्पाद की गुणवत्ता बनाए रखने के लिए,  इसमें गुणवत्ता वाले कच्चे माल की आवश्यकता होती है। ऐसे में Institutional support की जरूरत है |

3 )Marketing ( विपणन )

Lack of skill, experience, information and resource (कौशल, अनुभव, सूचना और संसाधन का अभाव)  कई cottage and small industry  (कुटीर और लघु उद्योग)  अपने उत्पाद का Marketing  करने में विफल रहते हैं। इसलिए उन्हें अपने उत्पाद के बाजार को कायम रखने के लिए Institutional support  की आवश्यकता थी |

4 ) Competency development (योग्यता विकास)

कुटीर और लघु उद्योगों को अपनी क्षमता विकसित करने की आवश्यकता है। इसलिए उन्हें अपनी क्षमता विकसित करने के लिए skill training (कौशल प्रशिक्षण) की आवश्यकता होती है। इस मामले में उन्हें संस्थागत समर्थन की जरूरत है |

5 )Access to infrastructure(बुनियादी ढांचे तक पहुंच)

कुटीर और छोटे उद्योगों को पर्याप्त बुनियादी ढांचा विकास की आवश्यकता है। सरकार को उचित बुनियादी सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए |

6 )Information, research and extension services (सूचना, अनुसंधान और विस्तार सेवाएं)

information in power, research is source of innovation and extension services provides knowledge about technology ( शक्ति में जानकारी, अनुसंधान नवाचार का स्रोत है और विस्तार सेवाएं प्रौद्योगिकी ) के बारे में ज्ञान प्रदान करती हैं। इसलिए कुटीर और छोटे उद्योगों को संस्थागत समर्थन की आवश्यकता है |

7 )Policy and incentives (नीति और प्रोत्साहन)

उद्यमशीलता के विकास के लिए केवल पर्याप्त पूंजी उचित बुनियादी ढाँचा और अन्य सुविधाएँ पर्याप्त नहीं हैं, लेकिन सीएससी के लिए उपयुक्त नीति और पर्याप्त प्रोत्साहन होना चाहिए।

Final Word

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की Institutional Setup In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हूँ की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं|

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*