जाने DBMS और उसके, प्रकार, Components हिंदी में – DBMS In Hindi

DBMS In Hindi

DBMS In Hindi

जाने DBMS के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में Ex. Types Of DBMS Hindi, Components In DBMS Hindi, Advantage , Disadvantage, Keys, Mapping hindi


DBMS In Hindi :- हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Visual Basic के DBMS In Hindi  के बारे में हैं

तो यदि आप जानना चाहते हैं की DBMS In Hindi    के बारे में तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं


What Is DBMS  In Hindi

DBMS का पूरा नाम Database Management System होता हैं ,  DBMS एक सॉफ्टवेयर
होता है जिसका उपयोग database बनाने के लिए और उस डेटाबेस को मैनेज करने के लिए किया
जाता है DBMS अपनी यूजर्स को व्यवस्थित तरीके के साथ डाटा को Create , Retrieve , update
और manage करने की सुविधा प्रदान करता है
ex . My SQL , PostgreSQL , Microsoft Access , Oracle etc.

a DBMS Maks it’s possible for end user to create read update and delete data in database

Database एक collection होता है related data का , database data को कुछ इस प्रकार store करता हैं की users उसे आसानी से access , update और manage कर सके

आप तो समझ गये होंगे की DBMS Kya Hai तो चलिए अब आगे पढ़ते हैं

DBMS In Hindi
Source – https://searchsqlserver.techtarget.com

Types Of DBMS In Hindi

DBMS 4 प्रकार का होता है. जो कि निम्न है:-

  1. Hierarchical
  2. Network
  3. Relational

1 . Relational Model In Hindi

  • इस Model में डाटा को relation मतलब टेबल में स्टोर किया जाता है तथा प्रत्येक रिलेशन में Row And Colum होते हैं
  • Relational Model Tables का कलेक्शन होता है इसमें डाटा एंड रिलेशनशिप को स्पेसिफाई किया जाता है
  • रिलेशनल मॉडल में जो डाटा होते हैं उस डाटा को टू डाइमेंशनल टेबल में Store किया जाता है
  • हम जानते हैं कि टेबल को रिलेशन भी कहते हैं और प्रत्येक टेबल की Row को हम Tupple तथा कॉलम को Attribute कहते हैं
  • Tupple  Entity को रिप्रेजेंट करता है

कुछ popular relational DBMS है:- DB 2, oracle, SQL server, RDBMS आदि.

Advantage Of Relational Model In Hindi

  1. रिलेशनल डेटाबेस बहुत ही Flexible होता है इसमें किसी भी प्रकार की Changes आसानी से कर सकते हैं
  2. Relational डेटाबेस का Concept बहुत ही सिंपल होता है क्योंकि इसमें डाटा को हम टेबल में स्टोर करते हैं
  3. रिलेशनल डेटाबेस डाटा इंटीग्रिटी प्रोवाइड करता है मतलब कोई भी users बिना owner की परमिशन के डेटाबेस को एक्सेस नहीं कर सकता

Disadvantage Of Relational Model In Hindi

  1. इसमें पावरफुल कंप्यूटर हार्डवेयर स्टोरेज डिवाइस तथा सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है
  2. इसमें डाटा इनकंसिस्टेंसी डाटा Duplication की प्रॉब्लम जनरेट होती है
relational database in hindi
relational database in hindi

 

2 . Network Model In Hindi

  • नेटवर्क मॉडल में डाटा को Graph के रूप में व्यवस्थित किया जाता है
  • इसमें एक से ज्यादा Parent Node हो सकते हैं इसका मतलब यह है कि इसमें एक से ज्यादा Parent – Child के रिलेशनशिप होती हैं
  • जिस समय  रिलेशनल मॉडल का प्रस्तावित नहीं हुआ था उस समय नेटवर्क मॉडल का सबसे ज्यादा यूज किया जाता था

3. Hierarchical Model In Hindi

इस मॉडल में parent-child रिलेशनशिप होती है। इस model में प्रत्येक entity के पास केवल एक parent होता है और बहुत सारें children होते है। इस मॉडल में केवल एक entity होती है जिसे हम root कहते है।


Components Of DBMS In Hindi

1. Tables

DBMS में सारा डाटा Tables में रखा जाता है. डाटा Store , Filter, Update , Create करना आदि सभी कार्य टेबल्स पर ही किये जाते है. टेबल्स Rows और Columns से मिलकर बनी होती है जिसमे डाटा स्टोर होता है.

2. Field

टेबल के अंदर प्रत्येक Column को फिल्ड कहते है , fields में किसी के बारे में specify किया जाता हैं जैसे की Customer Name , Customer Number , Customer Address etcc

3. Record

टेबल में  Row जिसमे डाटा होता है उसे रिकॉर्ड कहते है Record में किसी Customer की जानकारी के बारे में लिखा जाता हैं जैसे Customer का नाम क्या हैं , Customer का नंबर क्या हैं , Customer का address क्या हैं

Fields जो होती हैं उसमे ये लिखा जाता हैं की एक कस्टमर के बारे में क्या क्या लिखा जा सकता हैं और Record में उसके बारे में Entry की जाती हैं

4. Queries

database के tables में से किसी प्रकार की data को निकालना Query कहलाता हैं  जैसे आप एक ही City में रहने वाले Employee की सूचि निकालना चाहते है तो उसे क्वेरी कहेंगे.

5. Forms

यदि आप tables में data store करते हैं तो उसे store करना और Revised करना आसन नहीं होता हैं , इसलिए इस problem को दूर करने के लिए Forms का इस्तेमाल किया जाता हैं , forms में data को store करना आसन होता हैं और forms में भी tables की तरह ही data को store किया जाता हैं 

6. Reports

जब आप डेटाबेस के रिकॉर्ड को On Paper पर प्रिंट करते है तो उसे रिपोर्ट कहते है.


Advantage Of DBMS In Hindi

1 . Controlling Data Redundancy

File Based सिस्टम में प्रत्येक एप्लीकेशन प्रोग्राम की अपनी एक प्राइवेट फाइल होती है इस कंडीशन में कई स्थानों पर एक ही Types डाटा की डुप्लीकेट फाइल बन जाती है

डीबीएमएस में एक ऑर्गेनाइजेशन के सभी डाटा को एक डेटाबेस फाइल में Store किया जाता है That Means डाटा डेटाबेस में केवल 1 place पर स्टोर किया जाता है और इसे रिपीट नहीं किया जाता

2 Data Consistency

Data Redundancy  को कंट्रोल करके Data Consistency को प्राप्त किया जाता है That Means डेटाबेस में एक ही प्रकार के डाटा को बार-बार स्टोर होने से रोका जाता है

3 . Integration Of Data

DBMS में डाटा टेबल्स में स्टोर होते हैं और एक database  में एक से अधिक टेबल्स होते हैं तथा इन टेबल्स के बीच रिलेशनशिप को बनाया जा सकता है

4 . Data Security

DBMS में डाटा पूरी तरह Administrator के द्वारा कंट्रोल किया जाता है और database  Administrator ही यही Insure करता है कि किस यूजर को database  में कितना हिस्सा access  देना है

5 . Recovery Procedure

Computer एक मशीन हैं  तो यह बात तो fix हैं की उस computer के हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर में प्रॉब्लम आ सकती है तो यह बहुत जरूरी होता है कि हम उस कंप्यूटर के डाटा को रिकवर कर पाए तो DBMS यह काम आसानी से किया जा सकता है


Keys In DBMS In Hindi

database में बहुत सारे Key हैं , उन सभी key का अलग अलग use किया जाता हैं , अगर हम इस पोस्ट में सबके बारे में बताने लगे तो बहुत बड़ी पोस्ट हो जाएगी , तो हम key के बारे में किसी और पोस्ट में पढेंगे , मगर आपको हम इतना बता देते हैं की key कितने प्रकार की होती हैं तो हमारे DBMS में  प्रकार की होती हैं

  1. Primary Key
  2. Foreign Key
  3. Composite Key
  4. Candidate Key
  5. Super Key

Mapping In DBMS In Hindi

Database Schema के different level को आपस में जोड़कर Request को Response प्राप्त करना ही Mapping  कहलाता हैं

DBMS में mapping दो type की होती है।

1) external conceptual mapping
2) conceptual internal method


Conclusion Of DBMS In Hindi

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की DBMS Kya hai ( What Is DBMS  In Hindi )  और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हु की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं

1 Comment

4 Trackbacks / Pingbacks

  1. डेटाबेस स्कीमा हिंदी में - Database Schema In Hindi || DBMS Notes In HIndi
  2. जाने database के सभी Language हिंदी में - Database Language In Hindi
  3. जाने DBMS Architecture और Level हिंदी में - DBMS Architecture In Hindi
  4. सभी प्रकार के DBMS Key हिंदी में - Keys In DBMS In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*