जाने DBMS Architecture और Level हिंदी में – DBMS Architecture In Hindi

DBMS Architecture In Hindi

जाने DBMS Architecture और उसके level हिंदी में Physical , External, Logical Level In Hindi, Database Architecture In Hindi


DBMS Architecture In Hindi –  हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो DBMS के Architecture In Hindi  के बारे में हैं

तो यदि आप जानना चाहते हैं की DBMS Architecture In Hindi  के बारे में तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं


dbms में Architecture के 3 level हैं :-

  1. External or View Level
  2. Logical or Conceptual Level
  3. Physical Or Internal Level
DBMS Architecture In Hindi
image Credit- https://beginnersbook.com

1 . External or View Level In Hindi 

  • इसे View Level के नाम से भी जाना जाता है
  • यह एक End user-level होता है
  • इस Level में जो user , database मैनेजमेंट सिस्टम को यूज करते हैं उन्हें डेटाबेस कैसे दिखेगा यह बताया जाता है
  • जो यूजर को दिखता है हम वह डिसाइड करते हैं
  • हम अलग-अलग यूजर को अलग-अलग View दिखा सकते हैं

Example :- User A and User B

हम User A and User B को different – different view provide करा सकते हैं , अर्थात  जो दोनों का level या view होगा वो different टहोगा


2. Logical or Conceptual Level In Hindi

  • इसे Logical Level के नाम से भी जाना जाता है
  • Logical Level में यह देखते हैं कि हमारे डेटाबेस में कौनसे डाटा स्टोर होगा
  • इसमें  जो डाटा स्टोर होता है हम उनके बीच का रिलेशनशिप भी find कर सकते हैं
  • Logical Level में यह भी बता सकते हैं की :-
  1. data के constraints क्या क्या हैं
  2. data की seminatic information भी निकाल  सकते हैं
  3. security से related information भी निकल सकते हैं

Example:-

हम employee और  department का डाटा स्टोर कर रहे हैं , तो हम data store के साथ साथ इनके बिच का relationship भी find कर सकते हैं..


3. Physical Or Internal Level In Hindi

  • इसे internal level के  नाम से भी जाना जाता है
  • Physical Level लेवल में यह पता चलता है कि डाटा physically कैसे store हो रहा है
  • हमारे कंप्यूटर सिस्टम में जो डिस्क होता है हम उन्हीं में डाटा स्टोर करते हैं
  • इस level में space allocation decide करते हैं,  मतलब डाटा स्टोर करने के लिए कितना स्पेस यूज़ करना है
  • physical storage  के लिए हमें कौन सा फाइल सिस्टम यूज करना है इसमें डिसाइड किया जाता है
  • data की encryption या compression की technique भी यही decide किया जाता हैं
  • records की placement भी यही decide किया जाता हैं

Conclusion Of DBMS Architecture In Hindi

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की DBMS Architecture In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हु की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं


इन्हें भी पढ़े :-

  1. जाने DBMS के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में
  2. डेटाबेस स्कीमा हिंदी में