एनालॉग और डिजिटल सिग्नल हिंदी में- Analog And Digital Signal In Hindi

Analog And Digital Signal In Hindi
Analog And Digital Signal In Hindi

Analog And Digital Signal In Hindi

Analog And Digital Signal In Hindi –  हेल्लो Engineers कैसे हो , उम्मीद है आप ठीक होगे और पढाई तो चंगा होगा आज जो शेयर करने वाले वो Computer Network के Analog And Digital Signal In Hindi के बारे में हैं

तो यदि आप जानना चाहते हैं की OSI Model In Hindi  के बारे में तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ सकते हैं , और अगर समझ आ जाये तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं


Analog Signal In Hindi

Analog Signal नियमित electrical signal हैं जो समयनुसार बदलते रहता हैं, यह परिवर्तन Non-Electric Signal का अनुसरण करता हैं टेलीफ़ोन पर की जाने वाली बातचीत में हमारी आवाज को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजना Analog Signal के माध्यम से होता है। साइन वेव(Sine Wave) भी एनालॉग सिगनल का एक अच्छा उदाहरण है,

Human Voice, Music, Video आदि एनालाग सिग्नल के उदाहरण है। एनालाग सिग्नल की मुख्य कमी यह है कि इसमें High Quality Transmission नहीं हो पाता है तथा गलतियों की संभावना अधिक होती है।

Analog Signal In Hindi
इमेज source 

Advantage Of Analog Signal In Hindi 

  1. Analog Signal की कोई निश्चित सीमा नहीं है।
  2. Analog Signal  एक तरंग के रूप में डेटा संचारित करता है।
  3. एनालॉग सिगनल से ही हमारे मोबाइल, एक दूसरे से जुड़े है।
  4.  एनालॉग सिगनल के कारण सूचना को, electromagnetic तरंगो एक माध्यम से पूरी धरती में और धरती के बाहर(Satellite) तक पहुँचाना सम्भव हुआ

Digital Signal In Hindi

Digital Signal अनियमित होते हैं ये Signal अलग-अलग steps में change होते रहते हैं , विभिन्न levels या values के साथ यह pulse या digit रखता हैं. प्रत्येक pulse का मान स्थिर रहता है परन्तु एक digit से अगली digit में suddenly change होता हैं

Digital Signal के दो Amplitude होते हैं जिन्हे हम nodes कहते हैं जिसका value दो संभव value 0 या 1, उच्च या निम्न, सत्य या असत्य में से एक होता हैं , डिजिटल सिगनल में मानों की संख्या सीमित होती है।

Digital Signal In Hindi
Image Source 

Advantage Of Digital Signal In Hindi

  1. Digital System को Design करना आसान होता है, क्योकि इनमे Switching Circuit प्रयोग किये जाते है, जिनमे Signal का वास्तविक मान महत्वपूर्ण नहीं होता है, बल्कि उनकी रेंज(High/Low ) महत्वपूर्ण होती है।
  2. Digital format में information को store करना आसान होता है।
  3. इनमे Accuracy अधिक होती है, और Switching Circuit की संख्या अधिक कर accuracy को बढ़ाया जा सकता है।
  4. Operation को Computer की सहायता से Program किया जा सकता है।
  5. Digital System में शोर का प्रभाव कम होता है।
  6. Digital Circuit को IC(Integrated Circuit) पर बनाया जाता है।
  7. Signal का Digital Communication करने पर उनमे होने वाली Error का Detection और Correction संभव है।
  8. Signal का Digital Communication अधिक Secure होता है।
  9. VLSI(Very Large Scale Integration) तकनीकी सहायता से Transceivers small हलके व मोबाइल हो गए है।
  10. डिजिटल परिपथ(Circuit) अधिक Reliable होते है।

Difference Between Analog and Digital Signal In Hindi

विशेषताएं Analog Digital
signal का प्रकार continuous signal binary signal
Accuracy digital से कम accuracy होती हैं इसकी Accuracy उच्च होती हैं
Speed इसकी speed निम्न होती हैं इसकी Speed उच्च होती हैं
data Transmission उच्च Quality का डाटा transmission perform नहीं करता उच्च Quality का डाटा transmission perform करता हैं
Access Time लगभग 1 Sec कुछ sec
Integration Method Continuous Numerical

Final Word Of Analog And Digital Signal In Hindi

दोस्तों इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप तो ये समझ गये होंगे की Analog And Digital Signal In Hindi और आपको जरुर पसंद आई होगी , मैं हमेशा यही कोशिस करता हु की आपको सरल भासा में समझा सकू , शायद आप इसे समझ गये होंगे इस पोस्ट में मैंने सभी Topics को Cover किया हूँ ताकि आपको किसी और पोस्ट को पढने की जरूरत ना हो , यदि इस पोस्ट से आपकी हेल्प हुई होगी तो अपने दोस्तों से शेयर कर सकते हैं

इन्हें भी पढ़े :-

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*