COCOMO MODEL IN HINDI || CSEstudies.com

Cocomo Model In Hindi
Cocomo Model In Hindi
3.1 (62.5%) 8 votes

COCOMO MODEL IN HINDI

COCOMO Model का use किसी भी Software के Development में Cost Estimation के लिए किया जाता है जो Software के Cost को Evaluate करता है।

cocomo मॉडल का उपयोग किसी भी सॉफ्टवेयर के डेवलपमेंट कि कॉस्ट ऐस्टीमेशन (cost estimation) के लिए किया जाता है जो सॉफ्टवेयर की cost को evaluate करता है | Boehm के अनुसार किसी प्रोजेक्ट के डेवलपमेंट(development) के लिए लगने वाला cost  सॉफ्टवेयर के Characteristics के साथ साथ उसमें लगने वाली Development Team और Development Environment के ऊपर भी निर्भर करता है जो किसी न किसी रूप से उसके cost को Evaluate करता है।

COCOMO Model में किसी Project को Develop (विकसित) करने के लिए उसमे लगने वाले time (month) और Person(लोगों ) की संख्या की जरूरत को estimate करने के लिए effort equation (समीकरण ) का प्रयोग किया जाता है। Effort estimation के unit के लिए PM(person-months) का प्रयोग होता है। यहाँ पर PM(person-months)  किसी Project को बनाने में किसी एक Person द्वारा एक महीने (months) में उसके Work-done (कार्य-ख़तम ) से है।

Boehm के अनुसार, किसी भी Software को Cost Estimation के आधार पर निम्न तीन (three) Stages में बांटा गया हैं |

 

  • Basic COCOMO Model.
  • Intermediate COCOMO Model.
  • Complete COCOMO Mode.

Basic COCOMO Model :- बेसिक कोकोमो मॉडल केवल एक single predictor variable (size in DSI) और तीन software development modes का उपयोग कर सॉफ्टवेयर विकास प्रयास का अनुमान लगाता है |

 E= a(KLOC)^b 
उपरोक्त formula  का उपयोग basic कोकोमो मॉडल के cost estimation (लागत अनुमान) के लिए किया जाता है|

The constant values a and b for the Basic Model for the different categories of system:

Software Projects a b
Organic 2.4 1.05
Semi Detached 3.0 1.12
Embedded 3.6 1.20

 

Basic COCOMO Model कब प्रयोग करना चाहिए :-  basic कोकोमो सॉफ्टवेयर लागतों के quick, early, rough order of magnitude के लिए अच्छा है |

Limitations of basic cocomo :-

  • इसकी accuracy सीमित है क्योंकि कारकों की कमी की वजह से सॉफ्टवेयर लागत पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है |
  • और ये hardware issue को  ignore करता हैं |

Intermediate COCOMO Model :- ये Basic COCOMO model का extension हैं|  Intermediate COCOMO Model अपने environment को consider करते हुए 15 additional predictor use करता हैं , किसी value या cost को estimate करने के लिए |

जिस development environment  में हमें project को डिवेलप करना है उसके क्या Attributes है , वो  15 कॉस्ट ड्राइवर हमें हेल्प करता है कॉस्ट ऐस्टीमेशन के टाइम पर,  इन environment factor  को consider करने में |और इससे हमारे एक्यूरेसी increase होती है cost estimation  कि|

 

 E= (a(KLOC)^b)*EAF 

The values of a and b in case of the intermediate model are as follows:

Software Projects a b
Organic 3.2 1.05
Semi Detached 3.0 1.12
Embedded 2.8 1.20

Complete COCOMO Mode :- complete or detailed or advanced cocomo model  ये  mode phase sensitive  होता है | ये किसी भी phase  पे dependent  नहीं हैं |  प्रत्येक phase  को complete करने में कितना effort लगा उसको calculate करने के लिए हम use करते हैं |

The Six phases of detailed COCOMO are:-

  • planning and requirements
  • system design
  • detailed design
  • module code and test
  • integration and test
  • Cost Constructive model

 

 

 

 

 

 

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*